Shilajit (शिलाजीत)

  • Home
  • Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)
Shilajit (शिलाजीत)

Shilajit (शिलाजीत)

न सोऽस्ति रोगो भुवि साध्य रूपः शिलाह्वयं यं न जयेत् प्रसा।

तत्काल योगै विधिभिः प्रयुक्तं स्वस्थस्य चोर्जा विपुलां ददाति ।।

- महर्षि आत्रेय

  • Category : Herbal

Variant:

Price:

Quantities:

About Product

न सोऽस्ति रोगो भुवि साध्य रूपः शिलाह्वयं यं न जयेत् प्रसा।

तत्काल योगै विधिभिः प्रयुक्तं स्वस्थस्य चोर्जा विपुलां ददाति ।।

- महर्षि आत्रेय

अर्थात् –  इस पृथ्वी पर ऐसा कोई रोग नहीं है जिसे उचित समय पर, उचित योगों के साथ विधिपूर्वक शिलाजीत का प्रयोग करके बलपूर्वक नष्ट न किया जा सके। स्वस्थ मनुष्य भी यदि शिलाजीत का विधिपूर्वक प्रयोग करता है तो उसे उत्तम बल प्राप्त होता है।

शिलाजीत का उपयोग आमतौर पर आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है। आयुर्वेद ने शिलाजीत की बहुत प्रशंसा की है जहाँ इसे बलपुष्टिकारक, ओजवर्द्धक, दौर्बल्यनाशक एवं धातु पौष्टिक अधिकांश नुस्खों में शिलाजीत के प्रयोग किये जाते है। शिलाजीत को प्रकृति का एक अनमोल उत्पाद माना जाता है। शिलाजीत एक प्राकृतिक खनिज पदार्थ है।

How To Use

सेवन और मात्रा-

शिलाजीत का सेवन प्रतिदिन की 300-500 मिलीग्राम सुबह खाली पेट गुनगुने पाणी मे और रात को सोने से पहले गुनगुने दूध/पाणी के साथ ले सकते है।

Benifits

Whatsapp Icon Image